Thursday, May 23, 2024
Homeउत्तराखण्डआसमान से कहर बन कर बरस रहा पानी, चमोली जिले के कई...

आसमान से कहर बन कर बरस रहा पानी, चमोली जिले के कई स्थानों पर तबाही का मंजर

 

गोपेश्वर(चमोली)। रविवार की देर रात्रि से और सोमवार तक तक लगातार हो रही भारी वर्षा ने चमोली जिले के कई स्थानों पर कहर बरप्पा दिया है। जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। चारो ओर डर का महौल बना हुआ है। बदरीनाथ हाईवे भी 10 से अधिक स्थानों पर बाधित हो गया है। पुलिस और प्रशासन ने यात्रियों से सुरक्षित स्थानों पर रूके रहने की अपील की है, वहीं भारी वर्षा से पीपलकोटी बंड क्षेत्र के साथ ही अनेक स्थानों पर बारीश ने भारी तबाही मचाई है। पीपलकोटी में नगर पंचायत के पास नाला आने से कार्यालय भवन और वाहन दब गये है। सफाई कर्मचारियों के मवेशी बह गये है। सफाई कर्मियों को लोगों ने सुरक्षित निकाल कर अन्यत्र भेज दिया है। पीपलकोटी में ही मलवे में दबने से एक व्यक्ति के लापता होने की सूचना है।

सीमांत चमोली जिले के दशोली ब्लाॅक के बंड पट्टी के दर्जनों गांव में रविवार और सोमवार सुबह की भारी बारिश नें भारी तबाही मचाई। रविवार शाम पांच बजे के बाद शुरू हुई बारिश नें 12 बजे रात और सोमबार की सुबह तक किरूली गांव में भारी तबाही मचाई। किरूली गांव के कई आवासीय भवनो, गोशालाओं को नुकसान पहुंचा जबकि ग्रामीणों की सैकडो नाली कृर्षि भूमि भूस्खलन की चपेट में आ गयी। भारी बारिश नें किरूली गांव में जगत सिंह नेगी, अब्बल सिंह बिष्ट, रोशन सिंह बिष्ट, ताजबर सिंह बिष्ट के आवासीय मकान और गोशालाओं को नुकसान पहुंचाया। भारी बारिश से किरूली गांव के कई घरों में पानी घुस गया और लोगो को रातभर जागकर रात गुजारनी पडी। गडोरा किरूली सडक मार्ग बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई है। जिससे किरूली, गडोरा, लुंहा, दिगोली, महरगांव का सम्पर्क सडक से कट गया है। मायापूर, गडोरा क्षेत्र में भी बारीश ने भारी तबाही मचायी है।

बीते रविवार रात्रि को हुई भारी बारिश से गाडी गांव के घट गधरे के उफान से गांव से धार, ग्वाड़, नेवा और आगरा तोक को जोड़ने वाला वर्षों पुराना आरसीसी पैदल पुलिया क्षतिग्रस्त हो गया है। बिरही निजमुला मार्ग भी जगह-जगह मलवा आने से बन्द हो गया है। वीर गंगा का जल स्तर बढ़ने से नदी पर बिरही मे बने दो पुल भी बह गये। पुल बहने से कम्पनी में ड्यूटी कर रहे दो लोग वहीं फंस गये थे जिन्हें एसडीआरएफ ने सुरक्षित निकाल लिया है।

इधर जोशीमठ क्षेत्र के पगनों गांव में भी भारी भूस्खलन होने से पांच परिवार इसकी जद में आ गये है। इन परिवारों को सुरक्षित निकाल कर अन्यत्र शिफ्ट किया जा रहा है।

जिला आपदा परिचालन केंद्र और जिला सूचना विभाग से मिली जानकारी के अनुसार बदरीनाथ हाईवे जनपद की सीमा गौचर से लेकर बदरीनाथ तक 11 जगहों पर बाधित हो रखा है। जिला प्रशासन की ओर से यात्रियों को सुरक्षित स्थानों पर रूके रहने की अपील की गई है। पिंडर नदी का अचानक जल स्तर बढ़ जाने से पुलिस ने नदी किनारे रह रहे लोगों से सर्तक रहने की अपील की है।

   

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments