Tuesday, May 21, 2024
Homeउत्तराखण्डसचिव डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने ली जनपद हरिद्वार में विभिन्न योजनाओं को...

सचिव डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने ली जनपद हरिद्वार में विभिन्न योजनाओं को लेकर समीक्षा बैठक, दिए निर्देश

हरिद्वार : सचिव सहकारिता, पशुपालन, मत्स्य एवं डेरी विकास विभाग डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम की अध्यक्षता में सरकार जनता के द्वार कार्यक्रम के अन्तर्गत मंगलवार को विकास भवन सभागार में भारत सरकार तथा राज्य सरकार की फ्लैगशिप कार्यक्रमों, महत्वपूर्ण योजनाओं, जिला योजना, महत्वपूर्ण मुददों आदि के सम्बन्ध में एक समीक्षा बैठक आयोजित हुई।
बैठक में सचिव डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम को जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल, मुख्य विकास अधिकारी प्रतीक जैन, डीईएसटीओ नलिनी ध्यानी व सम्बन्धित अधिकारियों ने प्रस्तुतीकरण के माध्यम से विभिन्न फ्लैगशिप योजनाओं-प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण), प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी), राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन, जल जीवन मिशन, प्रधानमंत्री मातृ वंदना/बेटी बचाओं बेटी पढायो/टी०एच०आर० कुक्ड फूड/नन्दा गौरा/मुख्यमंत्री आंचल अमृत योजना, प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना, महात्मा गांधी रोजगार गारन्टी योजना, अटल आयुषमान योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, वीरचन्द्र सिंह गढ़वाली पर्यटन स्वरोजगार योजना, दीन दयाल उपाध्याय गृह आवास होमस्टे योजना, एन०सी०डी०सी० योजना/दुग्ध मूल्य प्रोत्साहन योजना, दीनदयाल उपाध्याय सहकारिता किसान कल्याण योजना, प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना (पीएमएमएसवाई),गौपालन योजना/बकरी पालन/महिला बकरी पालन आदि योजनाओं के सम्बन्ध में विस्तार से जानकारी दी।
सचिव डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) एवं प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के सम्बन्ध में अधिकारियों से जानकारी ली तो अधिकारियों ने बताया कि इनका जो लक्ष्य निर्धारित किया गया था, वह लगभग प्राप्त कर लिया गया है। राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के बारे में सचिव द्वारा पूछे जाने पर अधिकारियों ने बताया कि जनपद में इसके अन्तर्गत काफी अच्छा कार्य संचालित किया जा रहा है। इस पर सचिव ने कहा कि आजीविका मिशन की सफलता कि लिये आपसी समन्वय का होना बहुत आवश्यक है। इसलिये इस मिशन से जितने भी जुड़े हैं, वे आपस में अच्छा कोआर्डिनेशन स्थापित करना सुनिश्चित करें। 
बैठक में सचिव डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने जल जीवन मिशन की गहनता से समीक्षा की। उन्होंने कितना प्रतिशत कार्य हो गया है, मिशन को दु्रत गति से आगे बढ़ाने के लिये क्या रणनीति अपनाई गयी है, कहीं पर कोई समस्या तो नहीं आ रही है आदि के सम्बन्ध में जानकारी ली तो इस पर अधिकारियों ने बताया कि पिछले एक वर्ष के अन्तर्गत जल जीवन मिशन के कार्य में काफी प्रगति आई है तथा हम अपना लक्ष्य दिसम्बर,2023 तक अवश्य प्राप्त कर लेंगे। 
सचिव डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने प्रधानमंत्री मातृ वंदना/बेटी बचाओं बेटी पढायो/टी०एच०आर०कुक्ड फूड/नन्दा गौरा/मुख्यमंत्री आंचल अमृत योजनाओं की प्रगति के बारे में जानकारी ली तो अधिकारियों ने बताया कि इन योजनाओं के क्रियान्वयन में काफी प्रगति हुई है। इस पर सचिव ने निर्देश दिये कि ये सभी योजनायें जन-कल्याण से जुड़ी हैं, इसलिये इनमें और प्रगति लाई जाये ताकि इन योजनाओं के अन्तर्गत अधिक से अधिक लाभार्थियों को आच्छादित किया जा सके। 
सचिव डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के बारे में जानकारी लेते हुये पूछा कि इस योजना के तहत कितने किसानों का जनपद में ईकेवाईसी व आधार लिंक का कार्य हो गया तथा जो किन्हीं कारणों से नहीं हो पाये हैं, तो उन्हें भी यथाशीघ्र व्यक्तिगत रूचि लेते हुये करवाना सुनिश्चित करें। इस पर अधिकारियों ने बताया कि इसके लिये डोर-टू-डोर कैम्पेन किया जा रहा है। सचिव ने निर्देश दिये कि इस कार्य में ग्राम्य विकास अधिकारी तथा आंगनबाड़ी का भी सहयोग लेना सुनिश्चित करें। 
बैठक में सचिव ने महात्मा गांधी रोजगार गारन्टी योजना के तहत जॉब कार्ड, कौन-कौन से कार्य मनरेगा से कराये जा रहे हैं, के सम्बन्ध में जानकारी ली। उन्होंने जनपद में कितने अमृत सरोवर विकसित किये गये हैं, के सम्बन्ध में पूछा तो अधिकारियों ने बताया कि 75 अमृत सरोवर बनाये गये हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना (पीएमएमएसवाई) तथा जनपद में मत्स्य पालन की प्रगति के सम्बन्ध में भी अधिकारियों से जानकारी ली। 
सचिव डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने बैठक में सहकारिता, मिलेट्स, स्वास्थ्य, औद्यानिकी, गौपालन योजना/बकरी पालन योजना, गोट वैली आदि योजनाओं के सम्बन्ध में अधिकारियों से गहन चर्चा की तथा दिशा-निर्देश दिये। इस मौके पर सचिव डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने दूध का अधिक से अधिक उत्पादन बढ़ाने की दृष्टि से पशुपालन विभाग की योजना-’’श्वेत गंगा प्रोग्राम’’का भी शुभारम्भ किया, जिसे जनपद में सर्वप्रथम आकांक्षी ब्लॉक बहादराबाद में लागू किया जायेगा, जिसके तहत ब्लाक बहादराबाद को 12 हजार डोज सेक्स सारटेड सीमन(एसएसएस) की मुफ्त में उपलब्ध कराई जायेंगी। इस सेक्स सारटेड सीमन(एसएसएस) डोज की खासियत यह है कि जिस गाय को भी यह डोज लगाई जायेगी, उस गाय से 95 प्रतिशत बछिया ही पैदा होने की संभावना होती है, जिससे गाय के दूध का अधिक से अधिक उत्पादन होगा। इस सम्बन्ध में बीडीओ बहादराबाद द्वारा तैयार एक ऐप का भी प्रदर्शन किया गया है।
सचिव डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि सभी विभाग जितनी भी योजनायें चल रही हैं, उनको अमली-जामा पहनाने में एक साथ मिलजुलकर आपसी समन्वय स्थापित करते हुये कार्य करना सुनिश्चित करें। उन्होंने मुख्यमंत्री हेल्प लाइन के माध्यम से जिलाधिकारी श्री धीराज सिंह गर्ब्याल के निर्देशन में हरिद्वार जनपद द्वारा लोगों की शिकायतों को दूर करने में जो सराहनीय कार्य किया है, उसकी भूरि-भूरि प्रशंसा की। उन्होंने अधिकारियों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में जनपद हरिद्वार को प्रथम स्थान प्राप्त होने पर बधाई भी दी।
सचिव डॉ. बीवीआरसी पुरुषोत्तम ने जनपद के क्षेत्र भ्रमण के अन्तर्गत बहादराबाद ब्लाक का निरीक्षण किया, उसके बाद बहादराबाद के ग्राम डांडी में मत्स्य तालाब व कृषि वालों के हाईटेक कस्टम सेण्टर व अहमदपुरग्रण्ट में निर्मित मत्स्य तालाब का मुआयना भी किया।  इस अवसर पर पीडी केएन तिवारी, जिला विकास अधिकारी वेद प्रकाश, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. मनीष दत्त, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. योगश शर्मा, मुख्य कृषि अधिकारी विजय देवराड़ी, डीपीआरओ अतुल प्रताप सिंह, डीपीओ अविनाश भदौरिया, जिला कार्यक्रम अधिकारी सुलेखा सहगल, समाज कल्याण अधिकारी टीआर मलेठा, महाप्रबन्धक उद्योग पल्लवी गुप्ता, अधिशासी अभियन्ता सिंचाई मंजू, अधिशासी अभियन्ता लोक निर्माण, सुरेश तोमर, अधिशासी अभियन्ता जल निगम राजेश गुप्ता, बीडीओ बहादराबाद मानस मित्तल सहित सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित थे।
 
RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments