STF ने जेल से संचालित कुख्यात कलीम गैग का भण्डाफोड़ कर पांच को किया गिरफ्तार, 03 वांछित

0
47
उत्तराखण्ड एसटीएफ ने किया जेल से संचालित कुख्यात कलीम गैग का भण्डाफोड़
कुख्यात कलीम जेल से अपने गुर्गो के माध्यम से कर रहा था रंगदारी का खेल
एसटीएफ ने जेल के अन्दर से अपराधी कलीम से किये गये 01 लाख 29 हजार, चार सिम मय मोबाईल और भारी मात्रा में मादक पदार्थ बरामद
एसटीएफ द्वारा कुख्यात कलीम के 04 गुर्गो को जनपद हरिद्वार से किया गया गिरप्तार

देहरादून : जैसा कि विदित है कि पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार द्वारा अपने प्रभार को ग्रहण करने के पहले दिन से अपराध और अपराधियों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने का अपना मैसेज अपने मातहतोें को स्पष्ट कर दिया गया था, जिसमें उत्तराखण्ड एसटीएफ को भी उत्तराखण्ड की विभिन्न जेलों में निरूद्ध कुख्यात अपराधियों एवं उनके सदस्यों को लगातार निगरानी रखने का निर्दश दिया गया था, इसी के अनुपालन में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ अजय सिंह द्वारा उत्तराखण्ड में सक्रिय कुख्यात अपराधियों एवं उनके एवं उनके नेटवर्क पर लगातार निगरानी रखी जा रही थी।इसी क्रम में 04 अक्टूबर 2021 को उत्तराखण्ड एसटीएफ की एक टीम द्वारा जनपद अल्मोड़ा के जिला कारागार मेें जिला पुलिस के समन्वय से जेल में निरूद्ध कलीम की बैरक में जाकर सर्च ऑपरेशन किया गया तथा दूसरी टीम द्वारा कुख्यात कलीम के गुर्गों का पता लगाकर कार्यवाही की गयी है। पहली एसटीएफ टीम द्वारा जनपद अल्मोड़ा में जिला कारागार में चले सर्च ऑपरेशन के दौरान कलीम की बैरक में जाकर कलीम से 01 लाख 29 हजार, चार सिम मय मोबाईल और भारी मात्रा में मादक पदार्थ की बरामदगी की गयी जिसके सम्बन्ध में थाना अल्मोड़ा में अभियोग मु.अ.स. /21 धारा 115/120बी/411 भादवि, 8/20 एनडीपीएस एक्ट व प्रिजनर्स एक्ट में मुकदमा पंजीकृत करते हुये कलीम गैंग में सक्रिय भूमिका निभा रहे 01 जेल कर्मी को गिरप्तार किया गया, इस सर्च ऑपरेशन में कलीम को जेलके अंदर रुपये, मोबाइल फोन, मादक पदार्थ और अन्य समान पहुचाने के लिए एक जिला कारागार के कर्मचारी और अन्य स्थानीय ब्यक्ति की मिलीभगत भी सामने आई है तथा दूसरी एसटीएफ टीम द्वारा जनपद हरिद्वार से 04 अपराधियों को गिरप्तार किया गया है जिनसे 03 तमंचे, 06 कारतूस, 15000 रूप्ये और रंगदारी हेतु इस्तेमाल किये जा रहे 04 मोबाईल फोनों को बरामद किया गया। एसटीएफ ने अपनी कार्यवाही से कलीम गैंग का पूरा नेटवर्क ध्वस्त कर दिया गया है।

जिला कारागार अल्मोड़ा से गिरप्तार किये गये अभियुक्तों का विवरण

  1. ललित मोहन भट्ट पुत्र शंकर दत्त निवासी ग्राम गैंरों, बिरखतजैंती अल्मोड़ा

वांछित

  1. अतुल वर्मा पुत्र ललित मोहन वर्मा निवासी जोहड़ी बाजार बाज गली अल्मोड़ा

जनपद हरिद्वार से गिरप्तार किये गये अपराधी

  1. अक्षय कुमार पुत्र त्रिलोक निवासी ग्राम बहुअरवा, थाना मझाोलिया, बेतिया, पष्चिमी चम्पारण विहार
  2. साहेब कुमार पुत्र लालबाबु यादव निवासी बहुअरवा, थाना मझाोलिया, बेतिया, पष्चिमी चम्पारण विहार
  3. सद्दाम उर्फ गुल्लू पुत्र सलीम निवासी ग्राम कासमपुर थाना पथरी हरिद्वार
  4. नदीम पुत्र नसीम निवासी मोहल्ला किला, थाना मंगलौर जनपद हरिद्वार

गैंग के वांछित अपराधी

एसटीएफ की उपरोक्त कार्यवाही में प्रकाश मे आया कि कुख्यात अपराधी कलीम जिला कारागार अल्मोड़ा के अन्दर से मोबाईल फोन इस्तेमाल करता था जिसमें ये अपराधी वाट्सएप्प पर एक नम्बर जो कि साउथ अफ्रिका का था उससे विभिन्न लोगों को उनके परिवार की जानमाल के सलामत के लिये धमकाकर अपने गुर्गों के माध्यम से रंगदारी का कार्य कर रहा था, यह नम्बर बाहरी देश का होने के कारण आसानी से ट्रेस नहीं होता है, इसके लिये एसटीएफ द्वारा गोपनीय रूप से जिला कारागार में कलीम द्वारा इस्तेमाल किये जा रहे नम्बर का पता लगाकर उसके गुर्गो को चिन्हित किया गया.

इसके लिये एसटीएफ द्वारा विगत एक माह से इस पर लगातार गोपनीय जांच की जा रही थी, कलीम के गुर्गो की गिरप्तारी के दौरान उनसे प्राप्त मोबाईल फोन से ये बात स्पष्ट हो गयी उनसे कलीम लगातार सम्पर्क बनाये रखता था उन्हें वाट्सएप्प के माध्यम से जिसे उसके द्वारा धमकी दी गयी हो अथवा जिस पर फायर करना हो, सम्बन्धित व्यक्ति की वीडियो और पिक्चर देता था। इसके बाद उनसे कलीम के गुर्गे रंगदारी वसूल करके या अन्य लोगो से कलीम द्वारा दिये गये बैंक एकाउन्ट में जमा करने को कहते थे जिसे अल्मोड़ा जिला कारागार में नियुक्त कर्मी ओर एक अन्य स्थानीय ब्यक्ति की आपसी मिलीभगत भी प्रकाश में आई है। इस कार्यवाही में एक महत्वपूर्ण बात ये भी प्रकाश में आयी कि बाहरी प्रान्तो के शूटरों का इस्तेमाल इसलिये किया जा रहा था कि ये शूटर अपने टारगेट पर फायर करके तुरन्त यहां से भाग जाते जिससे आसानी से ट्रेस न हो सके। एसटीएफ द्वारा इस प्रकरण में कलीम से जुड़े अन्य लोगो की भी जांच की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here