रमन राणा की मौत का प्रकरण यूपी और उत्तराखण्ड पुलिस के बीच फंसा

0
2784

कोटद्वार। गत दिवस सड़क दुर्घटना में मृतक रमन राणा के परिजन न्याय के लिए दर-दर भटक रहे है। दरअसल घटना उत्तर प्रदेश के जनपद बिजनौर में होने के कारण उत्तराखण्ड पुलिस अपना पल्ला झाड़ रही है। वही बिजनौर पुलिस भी पोस्टमार्टम व पंचनामा कोटद्वार में होने के कारण मुकदमा दर्ज नहीं कर रही है। जिससे परेशान मृतक के परिजन कभी जनपद बिजनौर की कोतवाली तो कभी कोटद्वार कोतवाली, सीओ आफिस के चक्कर काट रहे है लेकिन उनकी रिर्पोट दर्ज नहीं हो पा रही है। कोटद्वार पुलिस का कहना है कि घटना यूपी में हुई है, इसलिए मामले की जांच भी यूपी पुलिस ही करेगी जबकि उप्र पुलिस का कहना है कि शव का पंचनामा और पोस्टमार्टम कोटद्वार पुलिस ने किया है इसलिए मुकदमा भी कोटद्वार पुलिस ही दर्ज करेगी।
शुक्रवार को मृतक की माता बीना राणा ने पुलिस क्षेत्राधिकारी जोधराम जोशी को दी तहरीर में कहा कि विगत 13 दिसम्बर को उनका बेटा रमन सुबह रोजमर्रा के काम से पर से निकला था लेकिन जब वह देर सांय तक वापस घर नहीं आया तो उन्होंने उसके दोस्तों से सम्पर्क किया तो उनके द्वारा रमन के बारे में अनभिज्ञता जाहिर की गई। उन्होंने कहा कि गुरूवार सुबह किसी व्यक्ति ने बताया कि उनका पुत्र राजकीय संयुक्त चिकित्सालय में भत्र्ती है। चिकित्सालय पहुंचने पर पता चला कि उनके पुत्र की सड़क दुर्घटना में मौत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि उन्हें पता चला है कि गत बुधवार रात आशीष ढौड़ियाल की मेरे पुत्र के साथ नोकझोक और हाथापाई हुई थी। उन्होंने आशीष पर रमन की हत्या कर मामले को सड़क दुर्घटना का रुप देने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि पूरे घटनाक्रम में आशीष की भूमिका संदिग्ध प्रतीत हो रही है। मृतक की माता बीना राणा ने कहा कि उनके बेटे का अभी तक पर्स और मोबाईल फोन भी नहीं मिला है। पर्स में आधार, वोट आईडी कार्ड व कुछ नकदी भी थी। उन्होंने पुलिस क्षेत्राधिकारी से प्रथम सूचना रिर्पोट दर्ज कर उचित कार्यवाही की मांग की।
बतातें चलें कि कण्डारी कॉलोनी नजीबाबाद रोड निवासी 37 वर्षीय रमन राणा पुत्र जीवन राणा अपने दोस्त कुंभीचौड़ निवासी आशीष ढौंडियाल के साथ विगत बुधवार रात को बाइक में कोटद्वार से नजीबाबाद की ओर जा रहा था। तभी अचानक जाफरा पुलिस चौकी के पास रमन अनियंत्रित होकर बाईक से नीचे गिर गया। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। गंभीर हालत में रमन को राजकीय संयुक्त चिकित्सालय कोटद्वार लाया गया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। जिसके बाद कोतवाली पुलिस ने रमन राणा के शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के बाद शव को परिजनों को सौंप दिया था। गुरूवार को भी मृतक के परिजन रिर्पोट दर्ज कराने के लिए कोटद्वार कोतवाली तो कभी बिजनौर कोतवाली के चक्कर काटते रहे लेकिन कही भी उनकी रिर्पोट दर्ज नहीं हो पायी।

Previous articleपौड़ी जिला प्रसाशन ने दिए सभी जगह अलाव जलाने व ठंड से लोगो को बचाने के निर्देश
Next articleपौड़ी जनपद के कल्जीखाल में शुरू हुई स्मार्ट क्लासेज, बच्चो में उत्साह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here