बेटी की मौत की खबर से पिता ने भी दम तोड़ा। श्रीनगर

3
37993

श्रीनगर —-

शुक्रवार रात ऋषिकेश बद्रीनाथ हाइवे पर हिट एंड रन केश में घायल व्यक्ति की मौत हो गयी है 55 वर्षिय बिलेन्द्र सिंह पुंडीर ने जोलीे ग्रांट अस्पताल में दम तोड़ दिया है… दरअसल शुक्रवार देर रात शादी से लोट रहे पिता बेटी को एक वाहन टक्कर मारकर भाग गया था जिसमे २३ साल की पूनम (बेटी) की मौके पर मौत हो गयी थी ….युवती के पिता बिलेन्द्र सिंह पुंडीर को भी कई गंभीर चोटे लगी थी जिस कारण उन्हें इलाज के लिए जोलीग्रांट हॉस्पिटल में रेफेर किया गया ,लेकिन रविवार को होश में आने पर जैसे ही पिता ने अपनी बेटी की मौत की खबर सुनी तो पिता की ह्रदय गति रुकने के कारण रविवार को पिता की भी मोत हो गयी…….इस हादसे के बाद पुलिस की लापरवाही भी खुल कर सामने आयी है घटना के 40 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली है …..पुलिस यह तक पता नहीं कर पायी है की टक्कर मरने वाला वाहन बड़ा था या छोटा अब पुलिस एनएच 58 पर लगे गैर सरकारी प्रतिष्ठानो की सहायता ले रही है उनके द्वारा लगाये गये सीसीटीवी की मदद से पुलिस अपराधी चालक को पकडने के दावे कर रही है…..वहीं पुलिस हवा मे तीर चलाते हुए टक्कर मारने वाले वाहन को ट्रक बता
रही है पुलिस ये भी कह रही है की घटना से सबक लेते हुए सभी भारी वाहनो की एंट्री पुलिस चैकियो पर की जाएगी लेकिन सवाल ये की इससे पहले भारी वाहनो की एंट्री क्यो नही की गई वही स्थानीय लोग पुलिस की लापरवाही पर जांच की मांग कर रहे है।

बड़ा सवाल यह है कि यात्रा के इस सीजन में भी पुलिस इतनी लापरवाह कैसे हो सकती है।

सीमा खत्री

3 COMMENTS

  1. Very bad show by UK police …..No safety of human life specially in yatra season , which show lackadsiscal of uttarakhand govt towards people of hill area

  2. पुलिस प्रशासन की श्रीनगर की जनता पर तानाशाही
    साथियों मैं आप लोगों से आज एक बात साजा करने जा रहा हूं.कुछ दिन पूर्व श्रीनगर में इतना बड़ा सड़क हादसा हुआ जिसमें कि दो लोगों ने अपनी जान गँवा दी पर अभी तक श्रीनगर के कोतवाल साहब उस पर कुछ नहीं कर पाए और इतने छोटे से शहर श्रीनगर में वो उस घटना के मुजरिम को अभी तक नहीं पकड़ पाए हैं कितने दुर्भाग्य की बात है कि घटना स्थल के 500 मीटर दूरी पर वहां पर पुलिस की चुंगी है और रात को चल रहे सारे चार पहिये वाहनों को वहां पर पंजीकरण करवाना पड़ता है फिर भी वहां से मुजरिम नहीं पकड़ा गया साथियों कहीं न कहीं ये पूरी साजिश पुलिस प्रशासन से मिली जुली लगती है. कल भी कोई एक महिला को श्रीनगर में ठोकर मार के चला गया फिर भी पुलिस प्रशासन उस पर भी कोई कार्यवाही नहीं कर पाई साथियों इसे पुलिस की नाकामी कहे की कुछ और पर एक सोचने वाला विषय है की शराब की दुकान की पुलिस प्रशासन को पूरी तरह से परवाह है वहां पर शराब माफियों को सुरक्षा देनी की पुलिस प्रशासन को पूरी होश है वहां की हर एक खबर पुलिस प्रशासन को मिल रही है अगर कुछ लोग वहां पर अपना धरना प्रर्दशन कर रहे हैं तो उन लोगों पर मुकदमा करना पुलिस की पूरी जिमेदारी है वहां पर बड़ी निष्ठापूर्वक अपने कार्य को वो निभा रहे हैं परंतु अगर किसी की जान चले जाए तो वहां पर वो उस मुजरिम को ढूंढना उचित नही समझ रहें हैं बहुत जल्द इसके खिलाफ शहर को एक होकर लड़ना होगा वरना शहर में ऐसी वारदातें होती रहेंगी😢

  3. police har jagah tab pahunchti hai jab sab khatam ho chuka hota hai. Ek young ladki or uske pita ki to death ho gyi but jiski laparwahi se ye hua so azad ghum raha hai. Agar uske andar thoda bhi insaniyat hoti to khud unhe hospital leke jata. Galti sab se hoti hai but agar wo thoda sahas dikhata to sayad dono bach jaate. But wo takkar mar k bhaag gaya. But duniya se to bhaag jayega god se kese bhagega wo to sab karmo ka hisab rakh raha hai. Poonam meri classmate thi school time pe. Jab humne ye news padhi to believe nahi hua. But god poonam or uske papa ki aatma ko shanti dena. Or uske ghar walon ko himmat dena.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here