बीएसएनएल कर्मचारियों की दबंगई, नही काटेंगे कनेक्शन। जैसे अब तक भुगतान किया वैसे ही आगे भी करो

0
1057

कोटद्वार- बाजार में मौजूद नई व पुरानी प्राइवेट टेलीकॉम कम्पनियां और उनकी तेजी से बदलती तकनीक, ग्राहकों के लिए बेहतर सुविधाएं, बिना कॉल ड्राप के मोबाइल नेटवर्क सेवा और सस्ते कॉल रेट,एसएमएस, डेटा प्लान भारत संचार निगम लिमिटेड(BSNL) पर भारी पड़ रहे है। एक दौर था जब घर मे बीएसएनएल का टेलीफोन कनेक्शन होना बहोत बड़ी बात हुआ करती थी। और इसके लिए आवेदन करने के बाद कई महीनों तक इंतजार भी करना पड़ता था। लेकिन संचार क्रांति में पिछले कुछ सालों में ही तेजी से आये बदलाव के चलते नई मोबाइल नेटवर्क कंपनियों ने बीएसएनएल को बहोत पीछे छोड़ दिया दिया है।

बेहतर सुविधाएं न दे पाने के कारण बीएसएनएल के भी ये दिन आ गए है कि अब कर्मचारियों को सर्दी,गर्मी और बारिश में सड़कों के किनारे सिम कार्ड बेचने पड़ रहे है। यदि समय से बीएसएनएल ने अपनी सुविधाओ को बेहतर किया होता तो आज शायद ये नौबत नही आती। लेकिन हैरत की बात ये है कि जिस तरह आजकल तेजी से बीएसएनएल के कनेक्शन कट रहे है। उसके बावजूद भी कर्मचारियों की अकड़ कम नही हुई है। आलम ये है कि पहले फ़ोन लगवाने के लिए चक्कर काटने पड़ते थे और इंतजार करना पड़ता था और अब फ़ोन कटवाने के लिए चक्कर काटने पड़ रहे है और पहले से ज्यादा इंतजार करना पड़ रहा है।

दरअसल बीएसएनएल द्वारा बेहतर मोबाइल नेटवर्क, व डेटा प्लान ग्राहकों को न दिए जाने के चलते तेजी से ग्राहक टेलीफोन कनेक्शन कटवा रहे है जिसको लेकर बीएसएनएल को भारी नुकसान भी हो रहा है लेकिन इसका एक बड़ा कारण कम्पनी के अधिकारियों व कर्मचारियों का व्यवहार भी है।
दरअसल दो माह पूर्व गीता देवी नाम की एक महिला ने हमे जानकारी दी थी कि पिछले 4 महीनों से वो अपना टेलीफोन कनेक्शन कटवाने के लिए चक्कर काट रही है लेकिन उनकी कोई सुनवाई नही हो रही है बल्कि ये कह दिया जाता है कि कुछ दिन और लगा के रख लो टेलीफोन फिलहाल कट पाना संभव नही है पर संभव क्यो नही है इसकी जानकारी बिल्कुल नही देते। वही बृहस्पतिवार को रंजना नाम की एक युवती जब अपने घर का टेलीफोन कनेक्शन कटवाने गयी तो उनसे कहा गया कि फ़ोन क्यो कटवा रही हो जिस पर उनका कहना था अब इसकी जरूरत नही है, इसलिए बेवजह बिल क्यो और कैसे दें। इस पर वहां मौजूद कर्मचारियों का कहना था कि जैसे आज तक बिल भुगतान करती आई हो वेसे आगे भी करती रहो और 2018 से पहले किसी हाल में फ़ोन न काटने की बात कहकर चुप हो गए। यही नही कुछ माह पूर्व आशीष अग्रवाल नाम के एक ग्राहक ने शिकायत की थी कि ऑनलाइन शिकायत दर्ज करने के बाद भी जब काफी समय तक उनका ब्रॉडबैंड ठीक नही हुआ और वो कार्यालय में इस बारे में जानकारी देने पहुचे तब उनके साथ भी दुर्व्यवहार किया गया था। इस तरह की कई शिकायत बीएसएनएल कोटद्वार कार्यालय से आ चुकी है जहां ग्राहकों से ये कहा जा रहा है कि एक साल से पहले फ़ोन कनेक्शन नही काटा जाएगा जैसे अब तक भुगतान करते आये ही वेसे ही आगे भी करते रहो। इस तरह दबंगई दिखाकर कोटद्वार बीएसएनएल ऑफिस वाले रोज कई ग्राहकों को नाराज करते है जो बाहर जाकर और ग्राहकों से भी यही कहते है कि जल्द ही फ़ोन कटा ले नही तो ये लोग कब क्या कर दे कुछ नही पता। बीएसएनएल के बुरे दिन आने का सबसे बड़ा कारण उनका खुद का स्टाफ है जिसका उदाहरण कोटद्वार कार्यालय में कभी भी देखा जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here