हरीश रावत जी जनता को न बरगलाये। खुद की सरकार में गैरसैंण को राजधानी क्यो नही बनाया ये बताये- विपिन कैंथोला

0
105

देहरादून- भाजपा प्रदेश प्रवक्ता बिपिन कैंथोला ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को गैरसैंण और पहाड़ प्रेम को लेकर कठघरे में ला खड़ा किया है। उन्होंने कहा कि हरीश रावत गैरसेंण के नाम पर केवल खोखली व बरगलाने वाली राजनीति कर रहे हैं। इस खेल के वो पुराने खिलाड़ी हैं, उंन्होने कहा कि जब वो मुख्यमंत्री थे तो तब उंन्होने अपना पहाड़ प्रेम कहां छुपा कर रखा था। जनता उनके इस खेल को जानती और पहचानती है। बिपिन कैंथोला ने हरीश रावत से सवाल करते हुए कहा कि, अपने शासनकाल में गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी क्यों घोषित नहीं किया व इस मुद्दे पर उनकी कांग्रेस पार्टी में कितने गहरे मतभेद थे इसका खुलासा भी वह जनता को बताएं। उन्होंने कहा कि आज भाजपा ने जब गैरसैंण ग्रीष्मकालीन राजधानी की घोषणा कर दी है, तो हरीश रावत पहाड़ प्रेम का ढोंग करने लगे है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि हरीश रावत को यह दिखाना है कि वही राज्य कांग्रेस में सबसे अधिक सक्रिय हैं। जिस तरह से हरीश रावत संगठन से इतर अपने खुद के कार्यक्रम करते हैं, उससे तो यह साफ दिखाई पड़ता है कि उनको उनकी ही पार्टी में कितनी गंभीरता से लिया जा रहा है। बिपिन कैंथोला ने कहा कि जनता हरीश रावत के सारे प्रपंच जानती है, जिसका जवाब उनको जनता 2017 के चुनाव में अच्छी तरह दे चुकी है। उनको 2-2 विधानसभा सीटों पर चुनाव में मुंह की खानी पड़ी थी। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि हरीश रावत को हमेशा से प्रदेश को अस्थिरता की ओर धकेलने का पुराना अनुभव है। वो इस खेल के माहिर खिलाड़ी हैं। उन्होंने कहा कि हरीश रावत के गैरसैंण भ्रमण से भाजपा को कोई फर्क पड़ने वाला नहीं है। क्योंकि जनता अच्छी तरह जानती है कि भाजपा ने जो कहा वो करके दिखा दिया है। पहले राज्य बनाया और अब भाजपा की त्रिवेन्द्र रावत सरकार ने उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी की घोषणा भी कर दी है। बिपिन कैंथोला ने कहा कि जनता सब जानती है। पूर्व सीएम हरीश रावत के हाथकंडों को भी अच्छी तरह से पहचानती भी है। भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने अपने अब तक के कार्यकाल में प्रदेश को विकास की जो दिशा दी है। वह आज तक के इतिहास में कभी नहीं हुआ। भाजपा जो वादा जनता से करती है। उसे निभाना भी जानती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here